Monday, September 27, 2010

हबीब साहब हमारे प्रेरणाश्रोत ...........




समस्त आत्मीय जनों को आपके अपने गौरव शर्मा "भारतीय" की ओर से सादर प्रणाम !!
सर्वप्रथम आप सभी को मै हर्ष के साथ यह सुखद समाचार देना चाहता हूँ कि आप सभी के सहयोग एवं आशीर्वाद से "अभियान भारतीय" को अब तक लगभग १७००० सन्देश प्राप्त हो चुके हैं तथा इसकी लोकप्रियता में निरंतर वृद्धि जारी हैं|मै "अभियान भारतीय" को स्वीकारने उसे अपना समर्थन मार्गदर्शन एवं आशीर्वाद प्रदान करने के लिए आप सभी के प्रति सादर आभार व्यक्त करता हूँ |
आज मै किसी महत्वपूर्ण विषय पर अपना राय अभिव्यक्त करने या किसी गंभीर विषय पर चिंतन करने के लिए नहीं वरन एक अतिमहत्वपूर्ण सख्शियत के प्रति आभार व्यक्त करने के लिए उपस्थित हूँ , यह पोस्ट मै आदरणीय एस. एम्. हबीब साहब के प्रति सादर आभार व्यक्त करते हुए उन्हें समर्पित कर उनसे मुझे अनवरत प्राप्त स्नेह, आशीर्वाद, सहयोग एवं मार्गदर्शन के लिए उनका शुक्रिया शब्दों में अदा करने का असंभव प्रयास कर रहा हूँ | हबीब साहब एक बहुआयामी प्रतिभावान सौम्य एवं सरल व्यक्तित्वा का नाम है जो एक कुशल चित्रकार ह्रदय स्पर्शिर लेखक, कवी के साथ साथ नेकदिल इन्सान भी हैं, सच कहूँ तो हबीब साहब के व्यक्तित्वा और क्रितित्वा को रेखांकित कर पाना मुझ जैसे अकिंचन के लिए कतई संभव नहीं है|
आज जन जन के ह्रदय मेंअपना स्थान बना चुकी "अभियान भारतीय" मेरी एक कल्पना ही तो थी और मैंने कभी स्वप्न में भी नहीं सोचा था कि लोगों का इतना अधिक स्नेह सहयोग एवं समर्थन हमें "अभियान भारतीय के माध्यम से मिल सकता है| बिना किसी रूपरेखा एवं योजना के मै महज एक कल्पना के साथ आदरणीय हबीब साहब के पास पहुंचा और उन्हें अपनी इच्छा से अवगत कराया तो न केवल उन्होंने मेरा उत्साह बढाया, मुझे मार्गदर्शन प्रदान किया वरन एक कल्पना को मूर्त रूप देने के लिए दिन रत एक कर "सन्देश पुस्तिका" के रूप में इस अभियान के आधार का निर्माण कर एक कार्ययोजना तथा रूपरेखा का निर्धारण उन्होंने किया| यह सन्देश पुस्तिका ही आज "अभियान भारतीय" कि पहचान है, और अभियान को जन जन तक पहुँचाने का माध्यम है| मुझे आप सभी को यह बताते हुए हर्ष हो रहा है कि इसका संयोजन एवं संपादन भी स्वयं हबीब साहब ने ही किया है| कहना व्यर्थ न होगा कि अगर हबीब साहब का आशीर्वाद और सहयोग हमें न मिलता तो शायद "अभियान भारतीय" कि कल्पना केवल कल्पना ही रह जाती |
मै ईश्वर से परम आदरणीय हबीब साहब के स्वस्थ समृद्ध एवं दीर्घायु जीवन कि प्रार्थना करता हूँ एवं आदरणीय हबीब साहब से सादर आग्रह करता हूँ कि आप अपना आशीर्वाद मय हाथ सदा मेरे सर पर बनायें रखें और आपका स्नेह और आशीर्वाद मुझमे निरंतर नविन उत्साह का संचार करता रहे ........वन्दे मातरम !!

10 comments:

  1. बहुत बढ़िया जानकारी दी है...आभार

    ReplyDelete
  2. ये क्या किया गौरव जी !!! इस दुनिया में तारीफ़ का हक़दार केवल वह "परमशक्ति" है, जिसने इस दुनिया को रचा है, और हम सब को यहाँ भेजा है कि हम सब मुहब्बत से रहें. एक दुसरे का सम्मान करें. लेकिन उस "ताक़ते अज़ीम" से दीगर किसी की तारीफ़ न वाजिब है न लाजिम.
    आपसे गुजारिश है की अपना यह पोस्ट वापस लेकर मेरी मदद करें, और मुझे "उसके" सामने गुनहगार होने से बचाएं.

    ReplyDelete
  3. Gaurav ji

    Aapka bahut - bahut aabhar blog pr aakar manobal badhaane ka. Aap ke blog pr likhi abhyukti ko dekha, padha aur kuchh der tak usi me kho gaya. Bahut hi saargarbhit aur aapke antarman ki pavitrata ko prastut karta blog. Aap ne yah kaise samajh liya ki aap ke andar rachna dharmita nahin hai. Aap ke andar Nirala ka oj aur Prasad ka gambhiry mujhe abhi se najar aa raha hai. Jb bhi meri aawasyakata samajhiye haajir hun. Haan ek baat daily main nahin milunga haa saptah me 1- 2 baar to jaroor mil jaunga, Yah meri baadhyata hai. Jahan rahta hun computer nahin hai. jab ghar aata hun 200 km ki doori tay karke tabhi baith pata hun. Astu Aage badho unchaaiyo ko chhoo lo yahi kamnaa hai.

    ReplyDelete
  4. Gaurav ji apke e mail pr sandesh nahi ja paya isliye uprokt sandene yahan chala aaya. Yahan to bahut hi upyogi aur chacha aur di hai aapne aur is pr Habib sir ki tippani ne aapka ka garav to badhaya hi is baat ko bhi prakat karta hai ki we kitne bade vicharsheel aur gauravshaali vyakitv ke dhani hai. Unhe mera pranam. aapkobhi Yathichit sneh ewam Aasheerwad.

    ReplyDelete
  5. वन्दे मातरम मित्रों !!
    आप सभी को बड़े खेद के साथ सूचित कर रहा हूँ की मेरी यह प्रोफाइल सहित ब्लॉग पुनः दुर्भावनावश हैक कर ली गयी है | "जिसे पुनः पाने को मै प्रयासरत हूँ", निश्चित ही ऐसी हरकत इस प्रोफाइल की बढती लोकप्रियता और "अभियान भार्त्यिया" के निरंतर प्रसार को रोकने के लिए किया गया है, जो की निश्चित रूप से हमारी सफलता ही है |
    मै यह सन्देश अपने नवनिर्मित प्रोफाइल से आप सभी को प्रेषित कर रहा हूँ , मै सभी हैकर्स सहित उन तत्वों को शख्त लहजे में बता देना चाहता हूँ की आप जितने बार भी चाहें मेरी प्रोफाइल हैक करें पर मेरे विचार, मेरे आशिर्वाद्कों को, मेरे शुभचिंतकों को, मेरे मित्रों को, मेरी भावना को, मेरे देशप्रेम को, मेरे उत्साह को, "अभियान भार्त्यिया की लोकप्रियता को कदापि हैक नहीं कर सकते हैं वरन आपके इन प्रयासों से हमारी लोकप्रियता में और वृद्धि होगी |
    जब हम "अभियान भारतीय" की दूसरी सीडी को आप सभी के समक्छ प्रस्तुत करने वाले थे और ऐसे समय में इस प्रोफाइल का हैक होना थोडा कस्त्दायक तो है पर मैंने हारना नहीं सिखा है आप सभी तक मै जल्दी ही इस प्रोफाइल अथवा नवनिर्मित प्रोफाइल के साथ उपस्थित होऊंगा ऐसी आशा ही नहीं वरन विश्वास है |
    आप सभी से निवेदन है की फ़िलहाल आप मुझसे संपर्क मेरे न. 09301988885 पर तथा इस प्रोफाइल में कर सकते हैं आप सभी से मै अपील करता हूँ की आप सभी मुहे कृपया मित्रता निवेदन प्रस्तुत करें जिससे मै पुनः आप सभी के करीब आ सकूँ .......आपका अपना :- गौरव शर्मा "भारतीय" {gouravsharma.2222@gmail.com, 09301988885}

    ReplyDelete
  6. आप सभी से निवेदन है की कृपया इस ब्लॉग में कोई भी टिपण्णी न देवें यह हैक हो चूका है| पर आप सभी से अनवरत जुडाव के लिए मैंने नया ब्लॉग निर्मित कर लेखन प्रारंभ कर दिया है, आप कृपया उस नए ब्लॉग में आकर अपनी प्रतिक्रियाओं से मुझे अवगत कराएँ इस कष्टमय समय में पुनः मेरा उत्साह बढ़ाएं !!
    मेरे ब्लॉग का यु. आर एल. निम्नांकित है :-
    लो मै फिर आ गया.....
    pls visit on my blog :- http://bhartiyagourav2222.blogspot.com/

    ReplyDelete
  7. सच कहा गौरव जी, मैं भी दूर रहकर आदरणीय हबीब जी से जुडाव महसूस करता हूँ, शायद ये उनके व्यक्तित्व का ही प्रभाव है.

    ReplyDelete
  8. गौरव जी...

    बहुत ही बेहतरीन प्रयास है आपका... अपने इस प्रयास में मुझे भी अपना साथी समझें....

    ReplyDelete
  9. तारीफ़ में जिनकी शब्द ही खो जाएं
    कैसे करें तारीफ़ जरा आप ही बताएं

    हबीब भाई को ढेर सारी शु्भकामनाएं
    हम बच्चों पर यूँ ही स्नेह रहे बनाएं

    ReplyDelete
  10. Hi I really liked your blog.

    I own a website. Which is a global platform for all the artists, whether they are poets, writers, or painters etc.
    We publish the best Content, under the writers name.
    I really liked the quality of your content. and we would love to publish your content as well. All of your content would be published under your name, so that you can get all the credit

    for the content. This is totally free of cost, and all the copy rights will remain with you. For better understanding,
    You can Check the Hindi Corner, literature and editorial section of our website and the content shared by different writers and poets. Kindly Reply if you are intersted in it.

    http://www.catchmypost.com

    and kindly reply on mypost@catchmypost.com

    ReplyDelete